Sold out!

वैदिक-स्वरमीमांसा

500.00

लेख – पं० युधिष्ठिर मीमांसक वेद में प्रयुक्त उदात्तादि स्वरों का विस्तृत विवेचन किया गया है। स्वर-शास्त्र के अज्ञान के कारण होने वाली भूलों का निदर्शन एवं स्वरभेद से होने वाले अर्थभेद को दर्शाया है। अप्राप्य

Sold out!